BSF, CRPF, CISF, ITBP, NSG, CAPF, SSB का फुलफॉर्म एवं इनके बारे में जानकारी

अगर आप BSF, CRPF, CISF, ITBP, NSG, CAPF, SSB का फुलफॉर्म जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट में हम आपको इन सभी का फुलफॉर्म और इनके बारे में बताने वाले हैं।

भारतीय सेना हमारे देश की रक्षा करते हैं। भारतीय सेना के तीन प्रमुख अंग है - थल सेना, जल सेना और वायु सेना। इन तीनों सेनाओं के प्रमुख भारत के राष्ट्रपति होते हैं। ये भारत के रक्षा मंत्रालय के अधीन कार्य करते हैं।

भारतीय सेना के अलावा BSF, CRPF, ITBP आदि बलों के जवान भी हमारे देश की रक्षा करते हैं। इन सभी को समुचित रूप से केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (Central Armed Police forces - CAPF) कहा जाता हैं। केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल भारत के गृह मंत्रालय के अधीन कार्य करता हैं।

'केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल' शब्द के इस्तेमाल की शुरुआत 2011 से हुई थी। इन्हें अर्द्धसैनिक बल की संज्ञा भी दी जाती हैं। आज इन बलों में जवानों की संख्या लगभग 10 लाख हैं।

केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के अंतर्गत सात बल आते है - BSF, CRPF, CISF, ITBP, NSG, SSB और असम राइफल्स (AR).

अब हम इन सभी बलों के बारे में विस्तार से जानेंगे।

BSF

BSF Full Form: BSF का फुलफॉर्म 'Border Security Force' होता हैं। हिंदी में BSF का पूरा नाम 'सीमा सुरक्षा बल' हैं।

Full form of BSF- Border Security Force

BSF के बारे में: सीमा सुरक्षा बल की स्थापना 1 दिसम्बर 1965 को हुआ था। भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद भारतीय सीमाओं की रक्षा करने के विशेष उद्देश्य के से सीमा सुरक्षा बल (BSF) की स्थापना की गई थी। BSF की स्थापना 25 बटालियनों और 3 कंपनियों के साथ की गई थी। वर्तमान में इस बल में 183 बटालियनें हैं।

यह गृह मंत्रालय (MHA) के प्रशासनिक नियंत्रण के तहत कार्य करती हैं।

BSF के जवानों को नक्सल विरोधी अभियानों, भारत-पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय सीमा, भारत-बांग्लादेश अंतर्राष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा (LoC) पर तैनात किया गया है। BSF के 2.65 लाख से अधिक जवान पाकिस्तान और बांग्लादेश की सीमाओं पर तैनात हैं।

BSF भारत का एक प्रमुख अर्धसैनिक बल है। यह विश्व का सबसे बड़ा सीमा रक्षक बल है। इस बल को 'भारतीय प्रदेशों की रक्षा की पहली दीवार' कहा जाता है।

CRPF

CRPF Full Form: CRPF का फुलफॉर्म 'Central Reserve Police Force' होता हैं। हिंदी में CRPF का पूरा नाम 'केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल' हैं।

Full form of CRPF- Central Reserve Police Force

CRPF के बारे में: आंतरिक सुरक्षा के लिए केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल भारत का प्रमुख केंद्रीय पुलिस बल है। यह भारत का सबसे बड़ा अर्धसैनिक बल हैं।

CRPF की स्थापना 27 जुलाई 1939 को क्राउन रिप्रेजेन्टेटिव्स पुलिस के रूप में की गई थी। इस बल का नाम  1947 के बाद केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल रखा गया। 28 दिसंबर, 1949 को CRPF अधिनियम के द्वारा यह केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल बन गया। वर्ष 1965 तक यह भारत-पाकिस्तान सीमा को सुरक्षा प्रदान करता था।

यह भारत सरकार के गृह मंत्रालय के तहत काम करता है। CRPF का मुख्यालय नई दिल्ली में हैं।

CRPF का प्रमुख कार्य देश की आंतरिक सुरक्षा है। पुलिस कार्रवाई में राज्य/संघ शासित प्रदेशों की सहायता, कानून-व्यवस्था बनाए रखना और आतंकवाद को रोकना CRPF की प्रमुख जिम्मेदारियाँ हैं।

त्वरित कार्रवाई बल (RPF) और दृढ़ कार्रवाई के लिए कमांडो बटालियन (कोबरा) CRPF के Special force हैं जिनका प्रमुख कार्य दंगों, वामपंथी उग्रवाद / अन्य उग्रवाद से निपटना है।

CISF

CISF Full Form: CISF का फुलफॉर्म 'Central Industrial Security Force' होता हैं। हिंदी में CISF का पूरा नाम 'केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल' हैं।

Full form of CISF- Central Industrial Security Force

CISF के बारे में: केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की स्थापना 10 मार्च 1969 को हुई थी। यह गृह मंत्रालय के अधीन कार्य करता हैं। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में हैं।

CISF एक अर्धसैनिक बल हैं जिसका मुख्य कार्य सरकारी कारखानो एवं अन्य सरकारी उपक्रमों को सुरक्षा प्रदान करना है।

यह देश के विभिन्न महत्वपूर्ण संस्थानों की भी सुरक्षा करता है। दिल्ली मेट्रो और सभी महत्वपूर्ण हवाई अड्डों की सुरक्षा CRPF द्वारा की जाती हैं।

यह विश्व का सबसे बड़ा औद्योगिक सुरक्षा बल है जिसमें लगभग 1,65,000 जवान कार्यरत हैं। यह देश का सबसे बड़ा अग्नि सुरक्षा प्रदाता भी है।

ITBP

ITBP Full Form: ITBP का फुलफॉर्म 'Indo-Tibetan Border Police' होता हैं। हिंदी में ITBP का पूरा नाम 'भारत-तिब्बत सीमा पुलिस' हैं।

Full form of ITBP- Indo-Tibetan Border Police

ITBP के बारे में: भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल की स्थापना 24 अक्टूबर 1962 को हुई थी। भारत-चीन युद्ध के उपरांत देश की उत्तरी सीमाओं को सुरक्षा प्रदान करने के लिए ITBP का गठन किया गया था। इसकी स्थापना चार बटालियन के साथ हुई थी।

आज ITBP 3,488 कि.मी. लंबी भारत-चीन सीमा की सुरक्षा करता है। LAC पर ITBP के जवान तैनात होते है व चीन से हमारे देश की सीमा की रक्षा करते हैं। ITBP को लद्दाख से लेकर अरुणाचल प्रदेश के मध्य तैनात किया जाता है।

यह आपातकाल के समय नागरिक सेवा (Civilian Aid) सहायता प्रदान करता है। प्राकृतिक आपदाओं के समय ITBP देशभर में बचाव और राहत अभियान चलाता है।

यह बल भारत सरकार के गृह मंत्रालय के अंतर्गत आता है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।

NSG

NSG Full Form: NSG का फुलफॉर्म 'National Security Guard' होता हैं। हिंदी में NSG का पूरा नाम 'राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड' हैं।

Full form of NSG- National Security Guard

NSG के बारे में: देश को आतंकी गतिविधियों से बचाने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड का गठन 22 सितंबर 1986 को किया गया था। NSG गृह मंत्रालय के नियंत्रण में काम करती है। NSG का आदर्श वाक्य सर्वत्र सर्वोत्तम सुरक्षा है।

NSG के जवानों को ब्लैक कैट के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि ये काले रंग के कपड़े पहनते हैं। इनके यूनिफार्म के ऊपर ब्लैक कैट का चिन्ह भी लगा होता हैं।

VVIP के सुरक्षा में NSG के जवानों की तैनाती की जाती हैं। आतंरिक सुरक्षा में यह बल एक अहम भूमिका निभाता हैं।

यह एक प्रतिनियुक्ति बल है। इसके सभी कर्मियों की नियुक्ति भारतीय सेना, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों, राज्य पुलिस बलों और अन्य संगठनों से प्रतिनियुक्ति पर की जाती है।

SSB

SSB Full Form: SSB का फुलफॉर्म 'Sashastra Seema Bal' होता हैं। हिंदी में SSB का पूरा नाम 'सशस्त्र सीमा बल' हैं।

Full form of SSB- Sashastra Seema Bal

SSB के बारे में: 2001 से पहले सशस्त्र सीमा बल को विशेष सेवा ब्यूरो (SSB) के रूप में जाना जाता था। विशेष सेवा ब्यूरो की स्थापना 1962 के भारत-चीन युद्ध के बाद वर्ष 1963 में की गई थी। वर्ष 2001 में यह गृह मंत्रालय के अधीन एक सीमा सुरक्षा बल बना और इसका नाम बदलकर 'सशस्त्र सीमा बल' रखा गया।

भारत-नेपाल सीमा और भारत-भूटान सीमा की सीमा सुरक्षा करने की जिम्मेदारी SSB की हैं। भूटान और नेपाल की सीमा पर इस बल के जवान तैनात होते हैं।

Assam Rifles (AR)

असम राइफल्स के बारे में: असम राइफल्स की स्थापना वर्ष 1835 में कछार लेवी (Cachar Levy) नाम से की गई थी। इसकी स्थापना एक एकल सैन्यबल के रूप में पूर्वोत्तर भारत में शांति स्थापित करने के उद्देश्य से की गई थी। कुछ समय बाद इस सैन्य बल को वर्ष 1870 में कुछ अतिरिक्त बटालियनों के साथ असम सैन्य पुलिस बटालियन में परिवर्तित कर दिया गया।

वर्ष 1917 में प्रथम विश्वयुद्ध के बाद इसका नाम बदलकर असम राइफल्स कर दिया गया। 1962 में चीनी आक्रमण के बाद असम राइफल्स को सेना के संचालन नियंत्रण में रखा गया। यह देश का सबसे पुराना पुलिस बल है।  इसमें 46 बटालियन हैं।

असम राइफल्स की दो मुख्य भूमिका है - 

  • पूर्वोत्तर क्षेत्रों में आंतरिक सुरक्षा बनाए रखना
  • भारत-म्यांमार सीमा की सुरक्षा करना

वर्तमान में असम राइफल्स का नियंत्रण गृह मंत्रालय तथा रक्षा मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से किया जाता है। यह दोहरी संरचना वाला एकमात्र अर्द्धसैनिक बल है। असम राइफल्स का प्रशासनिक नियंत्रण गृह मंत्रालय और संचालन नियंत्रण रक्षा मंत्रालय के अधीन सेना द्वारा किया जाता है।

असम राइफल्स को प्यार से ‘पूर्वोत्तर का प्रहरी’ और ‘पर्वतीय लोगों का मित्र’ कहा जाता है।

टिप्पणियाँ