बाघ के बारे में जानकारी और रोचक तथ्य | Interesting Facts About Tiger in Hindi

tiger

बाघ हमारे देश भारत का राष्ट्रीय पशु हैं। आज हम आपके लिए बाघ के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी (Information about tiger in Hindi) लेकर आएं हैं। इसके अलावा हम आपको बाघ से जुड़े कुछ रोचक तथ्य (Interesting facts about tiger in Hindi) भी बताएंगे। इस पोस्ट में दी गई जानकारियों की मदद से आप बड़ी ही आसानी से बाघ पर निबंध (Essay on Tiger in Hindi) लिख सकते है।

Information About Tiger in Hindi

जीव वैज्ञानिक वर्गीकरण की दृष्टि से बाघ ‘पैंथेरा’ वंश और ‘टिगरिस’ प्रजाति का जीव है जिसका वैज्ञानिक नाम 'पैंथेरा टिगरिस' है।

भारत का आधिकारिक रूप से घोषित राष्ट्रीय पशु बाघ है। यह एक जंगली जानवर है। यह भारत में आम तौर पर सुंदरवन, पश्चिम बंगाल, असम, त्रिपुरा और मध्य भारत के घने जंगल में पाया जाता है। यह बिल्लियों के परिवार से संबंधित है।

काली पट्टियों के साथ इसका रंग भूरा होता है। यह अपनी शारीरिक बनावट में बहुत सुंदर होता है। यह दो रंगों (नारंगी या सुनहरा और सफेद) में पाया जाता है। इसके पूरे शरीर पर कई छोटे फर होते हैं।

बाघ की दो खूबसूरत आंखें होती है जो रात के दौरान इंसानों से छह गुना बेहतर होती हैं। इसकी आंखें घरेलू बिल्ली के समान हैं। लेकिन सफेद बाघों की नीली आंखें होती हैं। इसकी आँखें अंधेरी रात में एक जलते हुए दीपक की तरह लगती हैं। यह दिन में सोता है और रात में शिकार के लिए जाता है। इसमें सूंघने की अच्छी क्षमता होती है जिसकी मदद से यह आसानी से शिकार कर सकता है। इसके दो कान हैं जो शिकार करते समय दूसरे जानवरों की आवाज सुनने में उसकी मदद करते हैं।

बाघ के पास चार दांत होते है - ऊपरी जबड़े में दो और निचले हिस्से में दो जो अन्य दांतों की तुलना में बहुत बड़े और लंबे होते हैं। ये दांत शिकार को पकड़ने और उसका गला घोंटने में बहुत मददगार होते हैं।

यह एक बड़ी बिल्ली की तरह भी दिखती है। यह पेड़ों पर भी चढ़ सकता है। इसका बड़ा और मजबूत शरीर होता है। यह बहुत तेज दौड़ता है। इसके पास मजबूत पैर और तीखे पंजे होते हैं। इसके फोरलेम्स बहुत मजबूत होता हैं जो उसे आगे की ओर कूदने और तेजी से दौड़ने में मदद करते हैं। इसकी एक लंबी पूंछ भी है जो अपने शिकार का शिकार करते समय सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसकी पूंछ उसे शिकार के पीछे तेजी से दौड़ते हुए संतुलन बनाए रखने में मदद करती है।

यह एक चौपाया जानवर है। यह गीले, नम और गर्म जंगलों के साथ-साथ बर्फ के ठंडे जंगल में रहता है। लोग ताकत, साहस और सुंदरता के लिए बाघ की प्रशंसा करते हैं। बाघ के बच्चे को शावक (Cubs) और मादा बाघ को बाघिन (Tigress) कहा जाता है।

Tigress and baby tiger

बाघों की उत्पत्ति:

बाघों की उत्पत्ति कहाँ से हुई ? यह एक जटिल प्रश्न है। कुछ लोगो का मानना हैं कि बाघों का मूल स्थान एशिया है, कुछ का कहना है अफ्रीका बाघों का मूल-स्थान है। लेकिन यह माना जाता है कि बाघों की उत्पत्ति एशियाई महाद्वीप में हुई है, अफ्रीका में नहीं। अफ्रीका में चीनी और बंगाली बाघों को बसाया गया। उन्हें उनकी प्रजातियों के अस्तित्व और निवास स्थान को विस्तारित करने के उद्देश्य से वहाँ छोड़ा गया था।

बाघ शिकार कैसे करते है ?

आमतौर पर बाघ बड़े या मध्यम आकार के जानवरों जैसे भैंस, हिरण, मगरमच्छ, तेंदुआ, अजगर आदि का शिकार करते हैं। बाघ आमतौर पर अकेला रहता है और अकेला ही शिकार करता है, समूह में नहीं।
बाघ लंबी दूरी तक अपने शिकार का पीछा नहीं करता है, वह धीरे-धीरे शिकार का पीछा करता है और उस पर अचानक हमला करता है। एक समय में यह 10 मीटर तक कूद सकता है।

जब यह मगरमच्छ को पकड़ता है तो यह अपने पंजे से सबसे पहले आंखों पर हमला करता है। इसके बाद यह उसे अपने जबड़े में पकड़ लेता है और मौत तक गला घोंट देता है।

बाघ इंसानो को नहीं खाता है, लेकिन कभी-कभी यह इंसानो का भी भक्षक बन जाता है। बाघ आमतौर पर भोजन के लिए घोड़े, भेड़, हिरण आदि जानवरों का शिकार करता है। माना जाता है कि एक बाघ (जो मवेशी खाता है) अपने 60 से 70 साल की उम्र में हर 5 दिन में एक बैल का शिकार करता है। अगर किसी बाघ को भोजन खोजने में परेशानी होती है तो वह पक्षियों, अंडों या जामुन को खा सकता है। जब इसे किसी भी तरह का भोजन नहीं मिल सके तो यह किसी भी तरह का मांस खा सकता है।

बाघ के लिए आवश्यक भोजन:

बाघ की तीन बुनियादी आवश्यकताएं है - बड़े शिकार, पानी और मानव समाज से दूर घने जंगल में मांद
एक समय मे एक वयस्क बाघ को खाने के लिए लगभग 12 पाउंड मांस की आवश्यकता होती है, हालांकि यह रात के दौरान 55 से 60 पाउंड मांस खा सकता है। 3 युवा शावकों की एक बाघिन को हर 20 दिनों में लगभग 280 किलोग्राम मांस की आवश्यकता होती है।

राष्ट्रीय पशु के रूप में बाघ:

भारत सरकार ने बाघ को भारत का राष्ट्रीय पशु (National Animal) घोषित किया है। अप्रैल 1973 में बाघ परियोजना के तहत इसे राष्ट्रीय पशु का दर्जा दिया गया था। टाइगर को राष्ट्रीय पशु घोषित करने के पीछे दो मुख्य कारण हैं -
  1. बाघ बहुत मजबूत और साहसी होता है।
  2. बाघों की दिन-प्रतिदिन घटती संख्या के कारण उन्हें सुरक्षा देना।

बाघ की उप-प्रजातियां (Subspecies of Tiger):

बाघ की दस मान्यता प्राप्त उप-प्रजातियाँ हैं जिनमें छह उप-प्रजातियाँ अब तक जीवित हैं। बाघ की उप-प्रजातियां आदिम समय में विलुप्त हो चुकी हैं। आधुनिक जीवित उप-प्रजातियां निम्नलिखित हैं:

साइबेरियन बाघ (Siberian Tigers)

साइबेरियन बाघ का वैज्ञानिक नाम 'पैंथेरा टिगरिस अटालिका' (Panthera tigris altaica) है। बाघ की इस उप-प्रजाति को अमूर बाघ के रूप में भी जाना जाता है जो रूस में पाया जाता है। 1940 में, इस उप-प्रजाति की संख्या तीव्रता से गिरी और वर्तमान में इस उप-प्रजाति के 40 बाघ बचे हैं। रूस ने इस उप-प्रजाति के संरक्षण के लिए कदम उठाया जिसके कारण 1980 में इसकी संख्या 500 हो गई।

इंडोचाइनीज बाघ (IndoChinese Tiger)

इस उप-प्रजाति का वैज्ञानिक नाम 'पैंथेरा टिगरिस कोरबेटी' (Panthera tigris corbetti) है। इंडोचाइनीज टाइगर को कॉर्बेट टाइगर के रूप में भी जाना जाता है। यह चीन, कंबोडिया, थाईलैंड, बर्मा, लाओस और वियतनाम में पाया जाता है। यह जंगल में पहाड़ी या पहाड़ी क्षेत्रों में रहना पसंद करता है।

बंगाल टाइगर (Bengal Tiger)

बंगाल टाइगर को भारतीय बाघ कहा जाता है और इसका वैज्ञानिक नाम 'पैंथेरा टिगरिस टाइग्रिस' (Panthera tigris tigris) है। यह ज्यादातर भारत, नेपाल, भूटान और बांग्लादेश में पाया जाता है। बाघों की रक्षा के लिए, भारत सरकार ने 1973 में भारत में प्रोजेक्ट टाइगर लॉन्च किया था। शोधकर्ताओं के अनुसार, इस प्रजाति के जंगलो में 2500 से कम बाघ हैं।
royal bengal tiger

सुमात्रा बाघ (Sumatran Tiger)

यह केवल सुमात्रा द्वीप पर पाया जाता है। इस उप-प्रजाति का वैज्ञानिक नाम 'पैंथेरा टिगरिस सुमात्री' (Panthera tigris sumatrae) है। यह मुख्य रूप से द्वीप के राष्ट्रीय उद्यान में देखा जाता है। इसपर भारी और संकरी काली पट्टियों के साथ गहरे नारंगी रंग का कोट है।

मलायन बाघ (Malayan Tiger)

मलायन टाइगर का वैज्ञानिक नाम 'पैंथेरा टिगरिस जैक्सनी' (Panthera tigris jacksoni) है। यह विशेष रूप से मलय प्रायद्वीप और थाईलैंड के दक्षिणी सिरे में पाया जाता है। 2004 में, मलयान बाघ को अलग उप-प्रजाति के रूप में मान्यता दी गई थी। यह इंडोचाइनीज बाघ से थोड़ा अलग है।

दक्षिण चीन टाइगर (South China Tiger):

दक्षिण चीन बाघ का वैज्ञानिक नाम 'पैंथेरा टिगरिस एमोएनेसिस' (Panthera tigris amoyensis) है। इसे अमॉय या ज़ियामी बाघ के रूप में भी जाना जाता है। यह बाघों की सबसे लुप्तप्राय उप-प्रजातियों के साथ-साथ दुनिया के 10 सबसे लुप्तप्राय जानवरों में से एक है। 1950 में, शोधकर्ताओं ने जंगल में 4,000 बाघों का अनुमान लगाया था, लेकिन 1996 में इन बाघों की संख्या 30-80 तक गिर गई थी। पिछले 25 वर्षों में किसी ने भी दक्षिण चीन का बाघ नहीं देखा। प्रमुख विशेषज्ञ इसे "कार्यात्मक रूप से विलुप्त" मानते हैं।

इनके अलावा बाघ की अन्य प्रजातियां Javan, Bali Tiger, Caspian और Sunda Island Tiger है जो विलुप्त हो चुकी है।

Interesting facts about Tiger in Hindi

बाघ के बारे में कुछ रोचक और दिलचस्प तथ्य निम्नलिखित है -
  • बाघ निशाचर जानवर हैं। 
  • शिकार के पीछे भागते समय संतुलन बनाए रखने के लिए इसकी लंबी पूंछ सहायक होती है।
  • इसे अकेले रहना और शिकार करना पसंद है।
  • यह 85 किमी/घंटा की रफ़्तार से दौड़ सकती है।
  • यह एक बार में लगभग 7 या 8 फीट की छलांग लगा सकता है।
  • जब शिकार के समय कई बाघ मौजूद होते हैं, तो नर बाघ मादा और शावकों को पहले खाने के लिए इंतजार करते हैं।
  • प्रत्येक बाघ पर स्ट्रिप्स (Stripes) अद्वितीय हैं, जैसे मानव उंगलियों के निशान। हर बाघ के शरीर पर 100 से भी ज्यादा धारीदार पट्टियाँ पायी जाती हैं, लेकिन किन्हीं भी दो बाघों की धारीदार पट्टियाँ एक जैसी नहीं होती हैं।
  • सफ़ेद बाघ, बाघों की कोई अलग प्रजाति नहीं है बल्कि सामान्य बाघ ही हैं लेकिन उनकी त्वचा पर ‘पिगमेंटरी कोशिकाओं’ के कम पाये जाने के कारण त्वचा का रंग सफ़ेद हो जाता है।
  • नवजात बाघ अपने जन्म से एक सप्ताह तक कुछ भी नहीं देख पाता है। 
  • ज्यादातर बाघों की बिल्ली की तरह पीली आंखें होती हैं, लेकिन सफेद बाघों की नीली आंखें होती हैं।
  • यह पेड़ों को खरोंचता है और अपने क्षेत्रों को चिह्नित करने के लिए अपने मूत्र का उपयोग करता है।
  • बाघ भी पानी में खेलने और तैरने का शौकीन होता है | बाघ मछलियों के शिकार के लिए कई किमी. तक तैर सकते हैं। 
  • बाघों के एक समूह को अंग्रेजी में ambush or streak कहा जाता है
  • बाघ की सबसे बड़ी उप-प्रजाति साइबेरियाई बाघ है जो रूस में पाई जाती है।
  • भारत व बांग्लादेश के सुंदरबन में पाये जाने वाले बाघ मैंग्रोव वनों में रहने वाले विश्व के एकमात्र बाघ हैं। 
  • बाघ की हड्डियों का उपयोग जोड़ों के दर्द, कठोरता, पीठ-दर्द, गठिया और मांसपेशियों की ऐंठन को ठीक करने के लिए किया जाता है।
  • अप्रैल 1973 में बाघ को भारत का राष्ट्रीय पशु घोषित किया गया था और बाघों के संरक्षण के लिए वर्ष 1973 में ही 'बाघ परियोजना' को प्रारम्भ किया गया था। 

Conclusion

बाघ एक मजबूत जानवर है। भारत के राष्ट्रीय पशु के रूप में घोषित होने के बाद भी इसका कई वर्षों तक तस्करी के लिए अवैध रूप से शिकार किया जाता रहा है। आर्थिक लाभ, मनोरंजन, पारम्परिक औषधि निर्माण आदि जैसे कारणों से इसका शिकार किया जाता है। भारत सरकार ने बाघों के संरक्षण हेतु कई कदम उठाए है और उन प्रयासों का परिणाम सकारात्मक रहा है। हमें लोगो को इसके प्रति जागरूक करना चाहिए।