पतेती पर्व पर हिन्दी निबंध- Essay on Pateti Festival in Hindi

पतेती पारसी समुदाय के नव वर्ष के शुरुआत का पर्व है। इसे नवरोज़ भी कहा जाता है। आज हम आपके लिए Pateti Festival Essay in Hindi लेकर आये है।
नववर्ष की शुरुआत के इस पर्व को पारसी समुदाय के लोग काफी हर्षोल्लास के साथ मनाते है। इस पर्व के बारे में अधिक जानकारी के लिए इस Pateti Festival Essay in Hindi को पूरा पढ़े।

Pateti Festival: Essay in Hindi

नवरोज़ या पतेती पारसी नववर्ष है। पारसियों के लिए यह दिन सबसे बड़ा होता है। यह जोरास्ट्रियन कैलेंडर के नए साल की पूर्व संध्या पर मनाया जाता है।
यह परंपरा लगभग 3000 साल पहले शुरू हुई थी। यह दुनिया भर में ईरानी और पारसी समुदाय द्वारा मनाया जाता है। इस दिन को फारसी राजा जमशेद के नाम पर जमशेद-ए-नूरोज़ के रूप से भी जाना जाता है, जिन्होंने पारसी कैलेंडर या शहंशाह कैलेंडर की शुरुआत की थी।

दुनिया के अधिकांश हिस्सों में 21 मार्च को नवरोज़ होता है। लेकिन भारतीय उपमहाद्वीप मे शहंशाह कैलेंडर (फ़ारसी कैलेंडर) का पालन किया जाता है जिसमे लीप वर्ष की गणना नहीं की जाती है। यही वजह है कि नवरोज़ 200 दिन बाद यानी 17 अगस्त को मनाया जाता है।

Pateti Festival के दिन पारसी लोग अग्नि मंदिर या आगार में जाते हैं। इस पूजनीय स्थल को अग्नि मंदिर कहा जाता है क्योंकि पवित्र अग्नि जो ईरान से एक बार लाई गई थी वह हमेशा उच्च पुजारी द्वारा मंदिर में जलती रहती है।
पारसी अग्नि के प्रतीक अहुरा मजदा की पूजा करते हैं। इस दिन पारसी अच्छे विचारों के साथ रहने, अच्छे शब्दों का इस्तेमाल करने और सही कार्य करने का शपथ लेते हैं।

Pateti festival

पतेती शब्द पारसी भाषा के एक शब्द 'पेतेत' से लिया गया है जिसका अर्थ है 'पश्चाताप'। पारसी सिद्धांत अच्छे विचारों, अच्छे शब्दों और अच्छे कर्मों के तीन आदर्शों पर आधारित हैं। जो कुछ भी इस समझौते से बाहर है, उसे पाप माना जाता है। किसी के लिए भी एक वर्ष के दौरान पाप करना स्वाभाविक है, भले ही वह अनजाने में ही क्यों न हो। पतेती स्वयं को पापमुक्त करने का एक अवसर होता है। नए साल को एक नए उत्साह के साथ नया जीवन शुरू करने का दिन माना जाता है। यह दिन खुशियों के साथ-साथ दुख के लिए भगवान् को धन्यवाद कहने का दिन होता है।

इस दिन पारसी अपनी कुर्ती या पवित्र बनियान पहनते हैं। पुरुष अपनी पारंपरिक पोशाक जिसे दगली कहते हैं, पहनते है और महिलाएँ अपने पारंपरिक परिधान हीरलोम साड़ी को पहनती हैं। पारसी धर्म के पूजा स्थल में एक पूजा (जशन) की जाती है और चंदन को अग्नि में अर्पित किया जाता है।

नए साल के दिन मेज पर लोग कुछ शुभ वस्तुओं को बिछाते हैं। इसमें पवित्र पुस्तक, ज़रथुस्त्र का चित्र, दर्पण, मोमबत्तियाँ, अगरबत्ती, फल, फूल, सुनहरी कटोरी, चीनी, रोटी और कुछ सिक्के शामिल हैं। ये चीजें परिवार के सदस्यों के लिए समृद्धि और लंबी उम्र का प्रतीक हैं।

इस समय पारसी अपने घरों को साफ करते हैं और उन्हें सजाते हैं। तोरण और फूलों का उपयोग घर के प्रवेश द्वार को सजाने के लिए किया जाता है और सुंदर रंगोली, पक्षियों, फूलों, मछली आदि का चित्र बनाया जाता हैं। इस दिन पारसी परिवार अन्य पारसियों के यहाँ जाते हैं और उपहार और मिठाइयों का आदान-प्रदान करते हैं। इस शुभ अवसर पर विशेष भोजन जैसे कि पेट्रा मेची (केले के पत्तों में लिपटी मछली), साली बोटी (आलू के चिप्स के साथ मांस), रवा और फालूदा तैयार किया जाता है।

pateti festival meal

एक मीठा रावो (चीनी, दूध और सूजी से बना) और सेंवई नवरोज़ के दिन नाश्ता होता है। नाश्ते के बाद, पूरे परिवार पास के एक अग्नि मंदिर या अगरियरी का दौरा करते है। पुजारी मंदिर में प्रार्थना करते हुए धन्यवाद देते हैं जिसे जशन कहा जाता है और ढके हुए सिर के साथ पवित्र अग्नि में चंदन अर्पित किया जाता है। इसके बाद एक-दूसरे को नए साल बधाई देते है।

नवरोज़ के दिन लंच में पुलाव (नट्स और केसर के साथ), मछली और अन्य मसालेदार मांसाहारी भोजन खाया  जाता हैं। सादा चावल और मूंग दाल को पकाना पारसी समुदाय में बहुत जरूरी है। घर में आने वाले हर मेहमान का स्वागत गुलाब जल छिड़कने और फालूदा से किया जाता है। इस प्रकार नवरोज को बहुत हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।